GST Registration Online Kaise Kare | Online GST Registration Process In Hindi 2021

Name of service:- GST Registration Online Apply
Post Date:-08/07/2021
Post Update Date:-13/07/2021
Short Information:-आज हम बात करेंगे GST Registration Process Step by Step के बारे में|भारत सरकार ने अब GST Registration Process Online कर दी है|इस पोस्ट को पढ़कर आपको Ward/Circle/Sector no For GST Registration से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त होगी इसलिए इस पोस्ट पर अंत तक जुड़े रहे | इससे आपको GST Registration Online India में कैसे करना है आदि जानकारी भी प्राप्त होगी |

विषय की सूची

Online GST Registration के बारे में जानकारी

GST Registration Process Step by Step ;- नमस्कार दोस्तों , आज हम आपसे बात करेंगे GST Registration Online India के बारे में | GST Full Form Goods And Services Tax ( गुड्स एंड सर्विस टैक्स)। GST टैक्स तब लगता है जब हम किसी उत्पाद को खरीदते हैं। अगर सीधे तौर पर समझे तो जीएसटी हमारे ऊपर लगने वाला Indirect Tax है। GST को साल 2017 में लागू किया गया।

2017 के पहले सेल्स टैक्स, एक्साइज टैक्स, सर्विस टैक्स जैसे कई तरह के टैक्स लिए जाते थे जो की आपको अलग अलग भुगतान करना पड़ते थे लेकिन जबसे GST India में लागु हुआ है अब जीएसटी में तमाम तरह के सभी टैक्स को शामिल कर दिया गया है |जीएसटी रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन और GST registration online apply करने की प्रकिया के बारे में इस पोस्ट में जानकारी देंगे इसिलिए पोस्ट को अंत तक पढ़े |

GST Registration Online Kaise Kare

GST registration procedure | GST registration form | GST registration Login | GST registration check | GST registration verification | GST रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन

GST क्या है ?

जीएसटी रजिस्ट्रेशन कैसे करे :- GST (Goods And Services Tax ) जिसे अपनी भाषा में वस्तु एवं सेवा कर कहा जाता है। GST को माल और सर्विस पर लगाया जाता है। इसके माध्यम से आप सारे टेक्स को अलग अलग भुगतान करने की बजे सिर्फ एक बार में GST के माध्यम से जमा कर सकते है | देश भर में लगभग सभी वस्तुओं और सेवाओें की बिक्री और विक्रय पर लगने वाले GST की सबसे अच्छी बात यह है कि GST किसी भी एक समान पर इसका Rate पूरे देश में एक जैसा होगा। अर्थात देश के किसी भी कोने में मौजूद GST भुगतान करने वाले Consumer को उस वस्तु पर एक बराबर Tax चुकाना पड़ेगा।

GST Online भुगतान के लिए आपको Registration करने की आवश्यकता होती है | GST Registration के लिए आपको भारत सरकार की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है | तथा अगर आप GST Registration Process विस्तार से समझना चाहते है तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़े | GST Registration करवाने से आप पेनेल्टी नही लगती है |

यह भी पढ़े :-

GST का रजिस्ट्रेशन करना क्यों जरुरी है?

GST पुरे देश में लागु किया गया है जिससे की देश कर हर क्रय-विक्रय करने वाले और व्यापार करने वाले लोगो को GST भुगतान करना आवश्यक है |इसके लागू होने के कारण आपको विभिन्न प्रकार के अप्रत्यक्ष करों का भुगतान नहीं करना पड़ेगा। GST Registration करवाने के बाद ही आप GST Online Pay कर सकते है |जिनका लोगो का समुचित कारोबार एक वित्त वर्ष में 20 लाख या इससे अधिक है उन व्यापारियों और करदाताओं के लिए जीएसटी के भुगतान के लिए जीएसटी ऑनलाइन पंजीकरण करना अनिवार्य है।

जानिए कैसे मिलेगा आपको GST Number

जी हाँ दोस्तों अगर आपका भी अपना व्यवसाय है और यदि आप भी अपनी दुकान,कारखाना आदि के लिए GST Number चाहते है तो आपको हम इस पोस्ट में सारी जानकारी दी गई है |जिससे आप भी अपनी दुकान के लिए जीएसटी रजिस्ट्रेशन फीस देकर जीएसटी नंबर बनवा पायेंगे | टैक्स आइडेंटिफिकेशन नंबर, जीएसटीआईएन (गुड्स एंड सर्विसेज आइडेंटिफिकेशन नंबर) के नाम से भी जाना जाता है। GST Number मूल रूप से एक 15 अंको की संख्या जिसने उस टैक्स आइडेटनिफिकेशन नंबर का स्थान लिया है जो कंपनियों के राज्यों में वैल्यू एडेड टैक्स नियम के तहत रजिस्टर दौरान उन्हें मिला था।


GST Number को पाने के लिए हर व्यवसाय को सिर्फ दो चरण के प्रोसेस को पूरा करना होगा| आपको केंद्र सरकार को अपने तरफ से GST ऑनलइन रजिस्ट्रेशन करना होगा |इसकी प्रक्रिया को काफी साधारण रखा है। जीएसटी रजिस्ट्रेशन बहुत ही महत्वूर्ण है क्योंकि बाद में ये जीएसटी से जुड़ी सभी फायदों को उपलब्ध कराने में मदद करेगी

GST के प्रकार

How To Check PFMS Scholarship Payment Status in Bihar

आपको बता दें कि जब भारत में जीएसटी (GST) लागू नहीं था तो हर राज्य सरकार प्रत्येक वस्तु पर जो चाहे वो टैक्स लगा सकती थी, और इसी कारण सभी राज्यों में जितनी भी वस्तुए थी सभी की कीमत अलग-अलग हो गई थी । जीएसटी का पुरे देश में लागु करने की प्रक्रिया बेहद ही कठिन थी | जीएसटी के बिना व्यवसाय कर पाना काफी मुश्किल था क्युकी अगर किसी चीज को दुसरे राज्य से लाना या बेचना होता है तो उन्हें काफी समस्या होती थी लेकिन अब जीएसटी (GST) के लागु होने के बाद टैक्स सिस्टम (Tax System) और अलग अलग टैक्स देने के पुरे तरीके से को ही बदल दिया है।

अगर किसी उत्पाद या वस्तु पर जीएसटी (GST) लगता है तो उसको वह दो भागों में बांटा जाता है:-

  • एसजीएसटी(SGST) :- जिसमें एसजीएसटी(SGST) यानी कि स्टेट गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स(State Goods and Services Tax) 
  • सीजीएसटी(CGST) :- सीजीएसटी(CGST) यानी कि सेंट्रल गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स(Central Goods And Services Tax) है।

GST Registration के नियम क्या-क्या है ?

  • यह लिमिट केवल Sale of Goods पर ही लगती है, Services के लिए यह लागू नहीं होती|
  • Mandatory GST Registration:-
  • अनिवासी भारतीय (NRI) , ई-कॉमर्स संस्थाए (E-Commerce), ई-कॉमर्स ऑपरेटरों के माध्यम से वस्तुओं और सेवाओं की आपूर्ति करने वाली संस्थाएं , टीडीएस के लिए पात्र व्यक्ति (TDS Deductor) आदि को Mandatory GST Registration करवाना है |
  • Voluntary GST Registration:-
  • इनपुट टैक्स क्रेडिट का फायदा मिलना , बिना रोकटोक के Interstate Supply करना, ई – कॉमर्स वेबसाइट के द्वारा व्यापार करने की आजादी , वस्तुओं और सेवाओं के आपूर्तिकर्ता के रूप में कानूनी मान्यता प्राप्त होना|आदि को Voluntary GST Registration करवाना है |
  • जिन वस्तुओ पर GST नहीं लगता व्यापारी उस माल की सप्लाई नहीं कर सकते|
  • जहाँ व्यापार हो रहा है वहा व्यापारी को दर्शाना होगा की वह Composition Scheme के तहत व्यापार कर रहा है|
  • जीएसटी के भुगतान में की गई आपूर्ति पर जीएसटी, रिवर्स चार्ज पर टैक्स और अपंजीकृत डीलर से खरीद का टैक्स शामिल होगा|
  • Dealer को Reverse Charge Mechanism लेनदेन के तहत सामान्य दरो पर टैक्स का भुगतान करना होगा|
  • Composition Dealer अंतर-राज्य आपूर्ति (Inter State Supply) नहीं कर सकते|
  • आपको Fixed Rate से अपने Turnover पर GST Pay करना होगा|जिससे कि
  • वे Input Credit के लिए क्लेम नहीं कर सकते|
  • एक वर्ष में Goods की सप्लाई के साथ अधिकतम 5 लाख तक की Services प्रदान की जा सकती है|
  • आपको बता दें कि जिन वस्तुओ पर GST नहीं लगता व्यापारी उस माल की सप्लाई नहीं कर सकते|
  • आप Composition Dealer अंतर-राज्य आपूर्ति (Inter State Supply) नहीं कर सकते|
  • व्यापारी जहां पर भी व्यापार कर रहा है उसे दर्शाना होगा की वह Composition Scheme के तहत व्यापार कर रहा है|
  • जो भी Dealer होगा उस को Reverse Charge Mechanism लेनदेन के तहत सामान्य दरो पर टैक्स का भुगतान करना होगा|
  • इस बात का ध्यान रहें कि Composition Scheme के मध्याम से व्यापारी अपने कस्टमर से GST वसूल नहीं कर सकता| व्यापारी को GST का भुगतान करना होगा, इसीलिए अब उसे Tax Invoice की जगह Bill of Supply इशू करना होगा|

GST Registration के लाभ

  • GST के कारण लंबे समय में वस्तुओं और सेवाओं की लागत में कमी आएगी, क्योंकि पहले कई मूल्य वर्धित कर (वैट) की वजह से माल और सेवाओं की कीमत में बढ़ोतरी का कारण बने।
  • GST Registration छोटे व्यवसायों के लिए एक बड़ा लाभ है, क्योंकि वे समय लेने वाली कराधान प्रक्रिया से बच सकते हैं और अपनी व्यावसायिक गतिविधियों पर ज्यादा ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।
  • GST Registration कपड़ा उद्योग जैसे असंगठित क्षेत्रों के लिए बहुत आवश्यक विनियमन लाएगा।जीएसटी इस विसंगति को ठीक करने का प्रयास करता है।
  • यह पूरी तरह से एक संघटित प्लेटफॉर्म है, जो जीएसटी गतिविधियों के संचालन को सरल और सुनिश्चित करेगा।
  • इससे पहले,केंद्र सरकार को कई अप्रत्यक्ष करों को संचालित करने का कार्य करना पड़ता था। जो की बेहद कठिन था | लेकिन GST और GST नेटवर्क (GSTN), GST ऑपरेशन से संबंधित सभी प्रक्रियाओं को संचालित करेगा।
  • 20 लाख से कम टर्नओवर वाले सेवा प्रदाताओं को जीएसटी का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है। उत्तर-पूर्वी राज्यों में, यह सीमा 10 लाख रुपये है।

GST Number Registration के लिए जरुरी Documents

GST number lene ke Liye kya Document chahiye

Important DatesDocuments Required
Service Begin:- 2017
Last Date for Online Apply:- Unlimited
Bank statement related to business
Account Details
Roc copy of company |
MOA or AOA Registration Certificate.
Pan Card
Electricity bill or landline bill.
A code-size photo

अगर आपको कोई भी Documents Resize करना है तो आप इस वेबसाइट Photo/Signature resize के थ्रू कर सकते हैं

Interested Candidates Can Read the Full Notification Before Apply Online

Importent Link

Bihar Mukhyamantri Udyami Yojana 2021 – Online Registration (10 Lakh Loan)

GST Registration OnlineClick Here
GST Portal LoginClick Here
GST RateClick Here
Check GST Registration Online StatusClick Here
GST PortalClick Here
Bihar Official SiteClick Here
Note:-
GST Registration के समय आपको अपनी और अपने व्यवसाय से जुडी साडी जानकारी सही सही ही देनी है |
जितनी आपकी इनकम होती है उसका ब्यौरा भी सम्पूर्ण देना है , अन्यथा आपका GST Registration Form निरस्त हो जायेगा |

GST Registration Time Limit

देखिये GST Registration Time Limit काफी आसन है , जीएसटी कानून के अनुसार GST Registration से 30 दिनों के भीतर हो जाना चाहिए |कहने का तात्पर्य यह है कि जिस दिन कोई व्यवसाय GST Registration के लिए Liable होता हैं और वह व्यवसाय 20 लाख रूपये (पूर्वोतर राज्यों में 10 लाख रूपये) की लिमिट को पार करता हैं , उस दिन से ठीक 30 दिनों के भीतर-भीतर GST Registration करवा लेना आवश्यक हैं| |

  जब भी कोई व्यवसाय, GST Registration की अनिवार्यता की अन्य परिस्थितियों जैसे Inter-State Supply करना या ECommerce Operator के द्वारा माल बेचना आदि परिस्थितियों के अंतर्गत कवर होता हैं उस दिन से 30 दिनों के भीतर रजिस्ट्रेशन करवा ही लेना होता हैं|

यह भी पढ़े :-

GST Registration ना करवाने और पेनल्टी

GST Rules के अनुसार अगर कोई व्यापारी का वार्षिक टर्नओवर काफी ज्यादा है और वह जीएसटी के दायरे में आता है, लेकिन जीएसटी के दायरे में आने के बाद भी अगर कोई व्यापारी द्वारा GST Registration नहीं करवाया जाता है या टैक्स नहीं भरा रहा है या कम टैक्स भर रहा है , ऐसी परिस्थिति में वह व्यापारी कानून की नजर में अपराधी साबित हो सकता है , क्योंकि उस पर टैक्स न भरने या टैक्स की चोरी करने के अंतर्गत कार्यवाही हो सकती हैं | जिसके कारण व्यापारी को भारी Penalty भरनी होगी |

आपको बता देगी GST Rules के अनुसार अगर कोई व्यापारी टैक्स चोरी के अंतर्गत साबित होता है किया, टैक्स भुगतान नहीं करने या कम टैक्स भरने के आरोप में दोषी साबित होता है तो उसे 10,000 या देय टैक्स की राशि का 10% जो भी ज्यादा हो का जुर्माना भरना होगा| अगर सीधी भाषा में कहें तो पूरा टैक्स भरने के बाद 10,000 रुपये न्यूनतम राशि का जुर्माना देना होगा|

जानिए जीएसटी आने से किन टैक्सों को हटाया

Central Taxes Those Replaced By GST
(केंद्र के वो टैक्स जिनकी जगह जीएसटी लेगा)
State Taxes those Replaced By GST (राज्यों के वो टैक्स जिनकी जगह जीएसटी लेगा)
केंद्रीय उत्पाद शुल्क
मेडिकल और टॉयलट संबधी निर्माण पर अतिरिक्त उत्पाद शुल्क
विशेष महत्व की वस्तुओं पर अतिरिक्त उत्पाद शुल्क

सूती वस्त्र व संबंधित उत्पादों पर अतिरिक्त उत्पाद शुल्क

कस्टम ड्यूटी, विशेष कस्टम डयूटी

सर्विस टैक्स, सेस और सरचार्ज
वैट, केंद्रीय बिक्री कर, खरीद कर,

विलासिता कर, प्रवेश कर,

सभी प्रकार के मनोरंजन कर

जो स्थानीय निकायों के अलावा लगते थे(विज्ञापन कर)

लॉटरी, सटटा और जुआं पर टैक्स

उपकर और अधिभार

GST Registration Online Full video

जीएसटी पंजीकरण कैसे करें?

आपको शायद पता होगा की जीएसटी कर प्रणाली भारत में 1 जुलाई, 2017 को लागू की गयी थी। जिसके पश्चात् भारत में जो भी विक्रेता निवेश करना चाहता हो तो उसे सर्व प्रथम जीएसटी (गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स) के नियम अनुसार पंजीकरण करना होगा। जिनकी सालाना आय 40 लाख से अधिक है उनके लिए जीएसटी रजिस्ट्रेशन अनिवार्य रूप से लागू होता है।

जीएसटी पंजीकरण प्रक्रिया पूरी तरह से कागज रहित है अर्थात ये ऑन लाइन डिजिटल रूप से होता है। विक्रेता इसमें ऑनलाइन जीएसटी पोर्टल की सहायता से पंजीकरण कर सकता है। हम इस लेख में जानेंगे की जीएसटी में पंजीकरण कैसे करें? इसके कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज? जीएसटी पंजीकरण करने की प्रक्रिया कैसे की जाती है? अथवा जीएसटी पंजीकरण नियम के बारे में जानेंगे?जीएसटी पंजीकरण संख्या को प्राप्त करने से पहले आपको कुछ आवश्यक जीएसटी पंजीकरण दस्तावेजों की आवश्यकता पड़ेगी। आइये जानते है की जीएसटी रजिस्ट्रेशन करते समय आपको किन-किन दस्तावेजों (डाक्यूमेंट्स) को अपलोड करना होगा, इनको एक-एक करके समझते है।

आइये देखते है की जीएसटी में रजिस्ट्रेशन अथवा जीएसटी पंजीकरण संख्या प्राप्त करने की प्रक्रिया कैसे की जाती है? जीएसटी पंजीकरण की प्रक्रिया करने में कुछ निम्नलिखित चरणों से होकर गुजरना पड़ता है। नीचे सभी चरणों को एक-एक करके विस्तार से जानने की कोशिश करते है। जीएसटी रजिस्ट्रेशन करने के लिए सर्व प्रथम आपको ऑनलाइन जीएसटी पोर्टल पर जाना होता है। आप जीएसटी पंजीकरण करने के लिए सरकार द्वारा दी गयी वेबसाइट https://www.gst.gov.in/ पर जा सकते है। इस लिंक पर क्लिक करते ही ऑन लाइन जीएसटी पोर्टल पर पहुंच जायेंगे। आपको इसमें ऊपर एक नीली पट्टी दिख रही होगी उस पर सर्विसेज (Services) नाम का विकल्प होगा। आपको उसी ऑप्शन पर क्लिक करना है। आप चित्र की सहायता से नीचे देख सकते है। सर्विसेज विकल्प पर जाने के बाद कुछ नए विकल्प नजर आएंगे, उनमे से रजिस्ट्रेशन (Registration) विकल्प पर क्लिक करना होगा। नीचे चित्र की सहायता से देखिये। रजिस्ट्रेशन विकल्प में दाखिल होने के बाद, आपको तीन विकल्प दिखाई देंगे। चित्र की सहायता से आप देख सकते है।

उनमे से आपको न्यू रजिस्ट्रेशन (New Registration) वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है। न्यू रेजिस्ट्रेशन ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद, आपको इसमें बहुत सारे विकल्प भरने के लिए दिख रहे होंगे। आप चित्र की सहायता से देखें। जिन विकल्पों के सामने लाल बिंदु है उन्हें भरना जरुरी है। क्योंकि इन्हे भरे बिना रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूर्ण नहीं हो सकती है। इससे पहले वाले चरण में हमने देखा था की ईमेल आईडी और फ़ोन नंबर भरना है, उसके बाद उन दोनों पर एक ओटीपी आएगा। वही ओटीपी हमे यहाँ पर दर्ज करना है। अगर आपके फ़ोन या ईमेल पर ओटीपी नहीं आया है तो आप रीसेंड ओटीपी (Resend OTP) विकल्प पर क्लिक करके ओटीपी को दोबारा अपने फ़ोन या ईमेल पर प्राप्त कर सकते है। जब ओटीपी नंबर प्राप्त हो जाये तो हमें नीचे दिख रहे ईमेल OTP अथवा मोबाइल OTP नाम से जो विकल्प है उनमे ओटीपी भरना है। इसके बाद सबसे नीचे एक बटन CONTINUE (जारी रखें) नाम का दिख रहा होगा उसी पर क्लिक करें।

अब आपको एक अस्थाई संदर्भ संख्या (टीआरएन नंबर) प्राप्त होगा। यह आपके ईमेल और फ़ोन नंबर पर भेजा जायेगा। इसके बाद आपको इस नई विंडो में सबसे नीचे Proceed का बटन दिख रहा होगा उस पर क्लिक करें। जब आपके फ़ोन नंबर और ईमेल पर टीआरएन नंबर प्राप्त हो जाये। तो इसके बाद दोबारा ऑनलाइन जीएसटी रजिस्ट्रेशन पोर्टल पर जाइये। और इस वेबसाइट https://www.gst.gov.in/ पर क्लिक करें। जब आप दोबारा से पोर्टल खोलेंगे तो आपको फिर से सर्विसेज (SERVICES) विकल्प पर जाना है। इसके बाद न्यू रजिस्ट्रेशन विकल्प पर जाइये,

अब आपको टीआरएन नाम का बुलेट (विकल्प) दिख रहा होगा। आपको उस पर क्लिक करना है। नीचे दिए गए चित्र की सहायता से देखें। इसके बाद नीचे वाले बॉक्स में टीआरएन रेफेरेंस नंबर (TRN Reference Number) नाम से विकल्प दिख रहा होगा उस विकल्प के नीचे वाले बॉक्स में हमे TRN नंबर दर्ज करना है। इसके बाद उससे नीचे वाले बॉक्स में कैप्चा (CAPTCHA) चित्र में दिख रहा होगा। उसी कैप्चा को हमें उससे ऊपर वाले बॉक्स में भरना होगा। और अंत में सबसे नीचे PROCEED  नाम का बटन दिख रहा होगा।

इसके बाद अब आपको उसी पर क्लिक करना है। इसके बाद आपको पंजीकृत फोन और ईमेल पर एक ओटीपी प्राप्त होगा। इसमें ईमेल/फ़ोन की सहायता से ओटीपी दर्ज करें और फिर प्रोसीड (PROCEED) बटन पर क्लिक करें। इसके बाद आप देखेंगे की आपके आवेदन की स्थिति ड्राफ्ट के रूप में दिखाई गयी है। अब इसके बाद आपको आखिर में एक “Action” (एक्शन) नाम का कॉलम है उसमे 2 आइकन दिखाई दे रहे होंगे। जिसमे से एक आइकन भरने का है और दूसरा डिलीट करने का है। नीचे चित्र में आप देख सकते है। इसमें से नीले वाले आइकन “एडिट आइकन” पर जाना है। इसमें आपने जब रजिस्ट्रेशन किया है उसकी तारीख, फॉर्म नंबर, फॉर्म के बारे में जानकारी, ये कब तक समाप्त होगा आदि जैसे विकल्प देखने को मिलेंगे।

पार्ट ए पूरा होने के बाद आप पार्ट बी में आते है। जब आप ऊपर दिए गए एडिट आइकन पर जाएंगे तो उसके बाद यहाँ आपको 4 खंड देखने को मिलेंगे। इसमें से सभी खंड भरने अनिवार्य है। और उपयुक्त दस्तावेज जमा करें। इस चित्र में आपको उन दस्तावेज की सूची दिख रही होगी। जिन्हें आपको जीएसटी रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन करते समय ध्यान में रखना है। इसमें आपको कुछ विकल्प दिख रहे होंगे इन्हें ध्यान पूर्वक आपको भरना है।

हम नीचे सभी विकल्पों के बारे में बारी-बारी से जानने की कोशिश करेंगे। सबसे पहले हमें “General Details” (सामान्य विवरण) का ऑप्शन दिख रहा होगा। हमने उसे चित्र की सहायता से दर्शाया हुआ है। उस ऑप्शन पर जाके क्लिक करना होगा। जैसे ही आप उस पर क्लिक करेंगे उसके बाद ही नई विंडो खुल जाएगी। उसमे कुछ ऑप्शन दिए है उन विकल्पों को सही पूर्वक भरें। हम एक-एक करके उनके बारे में जानते है। सामान्य विवरण ऑप्शन पर जैसे ही आप क्लिक करेंगे उसके बाद नई विंडो खुलेगी। आप नीचे चित्र की सहायता से देख सकते है। इसमें जिन विकल्पों के सामने लाल बिंदु है उन्हें भरना अनिवार्य है।

इसके बाद आपको “Applicant Detail” (एप्लिकेंट डिटेल) ऑप्शन दिख रहा होगा। हमने उसे चित्र की सहायता से दर्शाया हुआ है। उस ऑप्शन पर जाके क्लिक करना होगा। जैसे ही आप उस पर क्लिक करेंगे उसके बाद नई विंडो खुलेगी। उसमे कुछ ऑप्शन दिए है उन विकल्पों को सही पूर्वक भरें। उसके बाद आपको “Professional Address” (पेशेवर पता) ऑप्शन दिख रहा होगा। हमने उसे चित्र की सहायता से दर्शाया हुआ है। उस ऑप्शन पर जाके क्लिक करना होगा। ये एप्लिकेंट डिटेल विकल्प के बिलकुल बराबर में दिखेगा। जैसे ही आप उस पर क्लिक करेंगे उसके बाद नई विंडो खुलेगी। उसमे कुछ ऑप्शन दिए है उन विकल्पों को सही पूर्वक भरें।

इसके बाद विवरण सत्यापन पृष्ठ (वेरिफिकेशन पेज) विकल्प आपको सबसे आखिर में दायी और दिख रहा होगा। आपको उसी विकल्प पर जाना है। लेकिन उससे पहले इसके नीचे घोषणा (Declaration) नाम का ऑप्शन दिख रहा होगा उसपे टिक करना है। जिसका मतलब है की पंजीकृत व्यक्ति ने अपने बारे में सही जानकारी प्रदान की है अतः आगे की कार्यवाही पूरी कीजिये। उसके और नीचे जाने पर पंजीकृत व्यक्ति को अपना नाम देखने को मिलेगा ठीक उसकी दायी और पंजीकृत व्यक्ति को अपनी जगह विकल्प में नीचे के बॉक्स में भरना होगा।

ठीक उसके नीचे जिस दिन आपने पंजीकरण का आवेदन किया है उसकी तारीख देखने को मिलेगी और अंत में सबसे नीचे आपको 3 बटन दिख रहे होंगे। इनमे से पंजीकृत व्यक्ति किसी एक बटन को चुनके आगे की कार्यवाही शुरू कर सकते है। नीचे एक-एक करके इनके बारे में जानेंगे। आप सबसे नीचे डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाण पत्र (Digital Signature Certificate) नाम से बटन देख रहे होंगे। इसमें आप अपनी कम्पनी को डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाण पत्र के द्वारा उपयोग करके आवेदन प्रस्तुत कर सकते है। इस लेख में हम डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाण पत्र बटन के उपयोग से आगे की कार्यवाही आगे बढ़ाएंगे।

इसके बाद दायी और आपको ईवीसी ( इलेक्ट्रॉनिक सत्यापन कोड) नाम का बटन दिखेगा। इसमें आप इसमें ओटीपी को आधार पंजीकृत नंबर पर भेजा जाता है। यह एक आधार आधारित सेवा है। EVC (इलेक्ट्रॉनिक हस्ताक्षर) बटन का उपयोग करके आप इलेक्ट्रॉनिक हस्ताक्षर की मदद से आगे की कार्यवाही बढ़ा सकते है। यह एक आधार आधारित सेवा हइसके बाद जैसे ही आप डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाण पत्र के द्वारा जायेंगे उसके तुरंत बाद ही एक नई विंडो खुलेगी उसमे एक प्रकार का मैसेज दिखाई देगा जिसमे की लिखा होगा की पंजीकृत व्यक्ति के बारे में जितनी भी जानकारी है। वो जीएसटी रजिस्ट्रेशन के तहत लागू की गयी है। जिसमे की सभी जानकारी पंजीकृत व्यक्ति के बारे में ही होनी चाहिए और बिलकुल सही होनी चाहिए। अगर आपने गलती से कोई भी जानकारी गलत भर भी दी है तो घबराने की कोई भी जरूरत नहीं है। आप उसमे संशोधन भी सकते है।

इसके बाद अगर आपकी जानकारी सही है तो आप Proceed बटन पर क्लिक करें। इसके बाद एक नई विंडो खुलेगी उस पर एक सफलता सन्देश (आवेदन की संदर्भ संख्या) प्रदर्शित होगा। आप नीचे चित्र में देख सकते है। अब 15 min के भीतर आप एक बार फिर जीएसटी पोर्टल पर जायेंगे। उसके बाद सर्विसेज ऑप्शन पर जायेंगे फिर नई रेजिस्ट्रेशन विकल्प पर जाये और अंत में TRN विकल्प पर टिक करेंगे उसके बाद टीआरएन नंबर बॉक्स में डालेंगे और उसके नीचे कैप्चा भरेंगे। इसके बाद ओके करते ही आपके फ़ोन नंबर और ईमेल पर ओटीपी आएगा। उस ओटीपी को नए पेज में जो दो विकल्प दिख रहे होंगे उनमे भरें। अंत में Proceed का बटन दिख रहा होगा उसे क्लिक करें। ये प्रक्रिया हमने ऊपर भी की है, वहाँ से आप देख सकते है। जैसे ही आप Proceed बटन पर क्लिक करेंगे, उसके बाद एक नया पेज खुलेगा।

मैं आप सभी को बताना चाहूंगा कि भारत सरकार कोई भी जीएसटी पंजीकरण करने पर किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं लेती है। जीएसटी पंजीकरण करने की लागत सरकार की तरफ से बिल्कुल निशुल्क है, इसका मतलब है कि आपको सरकारी पोर्टल पर जीएसटी पंजीकरण के लिए किसी भी शुल्क का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है।लेकिन हमेशा याद रखें कि अगर आप एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी या एलएलपी या ओपीसी डायरेक्टर हैं तो आपको जीएसटी रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन करने के लिए डिजिटल सिग्नेचर की आवश्यकता पड़ेगी, इसलिए हां आपको डीएससी (डिजिटल सिग्नेचर सर्टिफिकेट) (DSC) करने के लिए कुछ रुपये खर्च करने पड़ते है। इसमें आप अपनी कम्पनी को डिजिटल हस्ताक्षर प्रमाण पत्र के द्वारा उपयोग करके आवेदन प्रस्तुत कर सकते है। इसीलिए इसे करने में थोड़ा सा खर्चा लगता है।

ध्यान रहे अगर आप वस्तु एवं सेवा कर प्रणाली (जीएसटी) में पंजीकरण करना चाहते है तो सबसे पहले आपको कुछ निम्न जीएसटी नियमो का पालन करना होता है। वैसे आपको जानकारी होगी की, हमने एक नए वित्तीय वर्ष (वित्त वर्ष 2019-20) में प्रवेश किया है। इसके तहत जीएसटी में कुछ बदलाव किए गए हैं जो 1 अप्रैल 2019 से लागू हो गए है। तो इन्ही जीएसटी पंजीकरण नियमों के बारे में हम नीचे बारी-बारी से बताने जा रहे है।

  • सीजीएसटी अधिनियम की धारा 23 के अनुसार, प्रत्येक व्यक्ति को जीएसटी पंजीकरण प्राप्त करने के लिए आवश्यक है। जीएसटी में पंजीकरण करने की पहले सीमा 20 लाख रूपये थी, जो की अब जीएसटी पंजीकरण नियम के अनुसार सीमा बढ़ाकर 40 लाख रु कर दी गयी है। लेकिन, अगर किसी भी व्यक्ति जो माल की आपूर्ति में संलग्न है और चालू वित्त वर्ष में उसका कुल कारोबार 40 लाख से कम है तो उसको गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स के तहत पंजीकरण करने की कोई भी आवश्यकता नहीं है।
  • नए जीएसटी पंजीकरण नियम के अनुसार, पंजीकृत व्यक्ति जो 2019-20 के लिए कंपोजिशन स्कीम के तहत कर के भुगतान का विकल्प चुनना चाहता है, उसे 31 मार्च, 2019 को अधिसूचित, हस्ताक्षरित और सत्यापित किया जाएगा, जो जीएसटी के सामान्य पोर्टल पर पर जाकर इसमें पंजीकरण कर सकता है। अगर आपको कम्पोजिट स्कीम के बारे में जानना है तो आप इस लेख पर जाकर कम्पोजिट स्कीम विस्तार से जानकारी प्राप्त कर सकते है।

अगर आपने सभी जानकारी बिलकुल सही तरीके से भरी है तो आपको कुछ इस तरह सफलता सन्देश प्रदर्शित होगा। जिसमे की आपके जीएसटी के लिए आवेदन की जानकारी अथवा ARN नंबर प्रदर्शित होगा। जिस दिन आपने आवेदन किया है उस दिन की तारीख भी दिखेगी। यह मैसेज आपके फ़ोन नंबर और ईमेल पर देखने को मिलेगा। इस तरह से हम जीएसटी में रजिस्ट्रेशन कर सकते है।

How To Apply for GST Registration Online
GST ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करें

Total Time: 30 minutes

  1. Step. Open Official Site

    GST Registration Online Kaise Kare | Online GST Registration Process

    सबसे पहले आपको इस Website पर जाना होगा|
    उसके बाद आपको  Taxpayers (Normal) के नीचे Register Now के option पर click करना होगा|
    अब आपके सामने न्यू page खुलेगा|

  2. Step. Registration Process

    यहाँ पर आपको New Registration के option को select करके, अपनी जानकारी भरनी होगी|
    उसके बाद image text को भर कर Proceed पर click कर देना है|
    अब आपके सामने Registration Form ओपन हो जायेगा |
    जिसमे आपको अपनी जानकारी में Email id और Mobile no. लिखना है,
    उस पर आपको अलग अलग OTP प्राप्त होंगे| जो आपको अगले page पर सही-सही भरने होंगे|
    उसके बाद Proceed के option पर click कर देवे |
    Proceed पर click करने के बाद , आपको एक Temporarily Reference Number (TRN) मिलेंगे उसे Save कर ले|

  3. Step. Login Process

    GST Registration Online Kaise Kare

    आपको जो एक Temporarily Reference Number (TRN) प्राप्त हुआ है वो यहा डालना है और image text को भर कर Proceed के option पर click कर दे|

  4. Step. Apply Process

    GST Registration Online Kaise Kare | Online GST Registration Process

    लोग इन करने के बाद अब आपके सामने एक न्यू पेज ओपन हो जायेगा |
    जिसमे आपको Business Details देना है तथा इसके अतिरिक आपके व्यापार से जुधी जो ही जानकारी पूछी जाय वो देना है |

  5. Step. Fill Personal Details

    GST Registration Online Kaise Kare | Online GST Registration Process

    इसके बाद अब आपको आपनी Personal Details देनी है जैसे की आपकी identity Details , Address Details आदि देना है |

  6. Step. Verification

    अब आपकी प्रोफाइल को आपको वेरीफाई करना है | और अंत में Verification में आपको अपने प्रोफाइल को दुबारा से रिव्यु करना है |
    इसके बाद आपको सबमिट कर देवे |
    अब आपकी प्रोफाइल अप्रोवे होने के बाद आपका GST Registration हो जायेगा |
    आप GST Registration Online Status Check कर सकते है |

How To Check GST Registration Online Status


GST status

  • सबसे पहले आपको उपर दी गई लींक से आधिकारिक वेबसाइट पर आना है |
  • इसके बाद आपको GST Service के Registration आप्शन में जाकर  Track Application Status पर क्लिक करना है |
GST Registretion status Check
  • अब आपके सामने Track Application Status पेज ओपन हो जायेगा |
  • अब आपना GST Registration Number का GST Registration Online Status पता कर सकते है |

How To Download GST Registration Certificate online

GST Certificate Download in Hindi Process इस प्रकार है :-

  • सबसे पहले आपको GST Portal पर जाना है |
  • इसके बाद आपको लोगइन करना है |
  • लोग इन करने के बाद आपके सामने होम पेज पर GST Services में User Services में जाकर View/ Download Certificate आप्शन को चुनना है |
GST Certificate Download Kaise Kare ?
GST Certificate Download Kaise Kare ?
  • अब आपके सामने Download GST Certificate का आप्शन आएगा जीस पर क्लिक करके आप अपना GST Registration Certificate Download online कर सकते है |

Frequently Asked Questions (FAQ)

1 Q GST Registration ऑनलाइन कैसे करते है ?

Ans GST Registration Online करने की प्रक्रिया इस प्रकार है :-
1. सबसे पहले आपको GST Portal पर जाना है |
2. अब आपको New GST Registration पर जाना है |
3. आपसे जो जानकारी पूछी जाय वो आपको बतानी है |
4.अंत में Verification के बाद आपका GST Registration हो जायेगा |

2 Q gst registration fees कितनी है ?

Ans GST Registration के लिए आपको कोई शुक्ल नहीं देना है |

3 Q GST Registration किसे करना जरूरी है ?

Ans वह व्यक्ति या व्यवसाय जिसका सालाना आय 20 लाख रूपये है , उन्हें GST Registration करवाना जरूरी है |

4 Q GST Registration के लिए टाइम लिमिट क्या है ?

Ans GST Registration के लिए टाइम लिमिट इस प्रकार है :-
जब आपकी आय या आपके व्यावसाय की द्वारा होने वाली आय 20 लाख के पार हो जाती है , तब से लेकर 30 दिनों के अन्दर अन्दर आपको GST Registration करवाना ही है |

5 Q GST Registration के लिए ऑफिसियल वेबसाइट क्या है ?

Ans GST Registration के लिए ऑफिसियल वेबसाइट gst.gov.in/registration है |

6 Q GST Registration के लिए क्या क्या डाक्यूमेंट्स चाहिए ?

Ans जीएसटी पंजीकरण के लिए आवश्यक दस्तावेज:-
Bank statement related to business
Account Details
Roc copy of company |
MOA or AOA Registration Certificate.
Pan Card
Electricity bill or landline bill.
A code-size photo

7 Q GST का फुल फ्रॉम क्या हैं ? GST full form ?

Ans GST meaning in English: Goods and Services Tax

8 Q GST फुल फ्रॉम इन हिंदी ?

Ans जीएसटी का फुल फॉर्म गुड्स एंड सर्विस टैक्स है।

9 Q GST कितने प्रकार का होता है ?

Ans GST दो प्रकार का होता है :-
1. SGST
2. CGST

ध्यान दें :- ऐसे ही केंद्र सरकार और राज्य सरकार के द्वारा शुरू की गई नई या पुरानी सरकारी योजनाओं की जानकारी हम आपतक सबसे पहले अपने इस Website के माधयम से पहुँचआते रहेंगे biharonlineportal.com, तो आप हमारे Website को फॉलो करना ना भूलें ।

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Share जरूर करें ।

इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद,,,

नीचे दिए गए सोशल मीडिया के आइकॉन पर क्लिक करके आप हमारे साथ जुड़ सकते हैं जिससे आने वाली नई योजना की जानकारी आप तक पहुंच सके|

Leave a Comment

x