जिओ मोबाइल टावर कैसे लगवाए | मोबाइल टावर कैसे लगवाये और मनचाहे पैसे कमाएं

Name of service:-Mobile Tower Installation Process
Post Date:-18/11/2021
Post Update Date:-
Beneficiary:-Indian Citizen
Short Information:-आज हम बात करेंगे मोबाइल टावर लगवाने से जुड़ी तमाम जानकारियों के बारे में। मोबाइल टावर लगवाने के नियम, फायदे, नुकसान, इनकम और आवेदन प्रक्रिया संबंधी सभी जानकारियाँ आपको इस लेख में मिल जाएंगी। इसलिए इस पोस्ट पर अंत तक जुड़े रहे |

विषय की सूची

मोबाइल टावर कैसे लगवायें

मोबाइल टावर लगवाने के लिए आपको आईडिया, जिओ या एयरटेल जैसी कंपनियों से बात नहीं करना होता है बल्कि थर्ड पार्टी मोबाइल टावर लगाने वाली कंपनी से सम्पर्क करना होता है। इन बड़ी कंपनियों का टावर लगवाने वाली कंपनियों से पार्टनरशिप रहता है। टावर लगवाने वाली ये कम्पनियाँ हैं – भारती इंफ्राटेल, इंडस टावर्स, एटीसी टावर, जिओ। अगर आप भी अपने खाली पड़े ज़मीन पर टावर लगवा कर पैसे कमाने चाहते हैं तो आपको भी इन कंपनियों से ही संपर्क करना होगा। इन कंपनियों की वेबसाइट पर जाकर टावर लगाने के लिए आवेदन करना होगा और अपने ज़मीन की पूरी जानकारी देनी होगी। कंपनी आपके ज़मीन का निरीक्षण करने के बाद ही आपको टावर लगवाने की अनुमति देगी। अगर हम टावर की ऊँचाई की बात करें तो आमतौर पर टावर की ऊंचाई 20 से 200 मीटर के बीच होती है।  टावर लगाने के बदले कंपनी आपको लैंड के हिसाब से किराया देती है। यह किराया हज़ारों रूपये से लेकर लाखों तक भी हो सकता है।

मोबाइल टावर लगवाने के नियम

मोबाइल टावर लगवाने के नियम नॉर्मली किसी भी अन्य कंपनी को रेंट पर ज़मीन देने से अलग होता है। आइये इन नियमों के बारे में जाने –

वर्तमान समय में हम टेक्नीकल चीज़ों के इतने आदी हो चुके हैं की बिना इंटरनेट के एक सेकंड गुजारना भी मुश्किल सा लगता है। आज हर किसी के पास स्मार्टफोन है। अगर बात सिर्फ कालिंग की होती तो किसी भी नेटवर्क से काम चलाया जा सकता है लेकिन जबसे लोगों ने खुद को ऑनलाइन की दुनिया से जोड़ लिया है तबसे इंटरनेट के अच्छे नेटवर्क की जरूरत भी बढ़ गयी है। जिओ के आने के बाद ये कॉम्पिटिशन और भी ज्यादा बढ़ गया है। टेलीकॉम इंडस्ट्री की ग्रोथ ने इंटरनेट की डिमांड हाई कर दी है और इन कंपनियों के बीच भी अच्छी सर्विस देने की होड़ सी लग गयी है।

  • अगर आप गाँव में टावर लगवाना चाहते हैं तो आपके पास न्यूनतम 2500 स्क्वायर फ़ीट की ज़मीन होनी चाहिए। 
  • अगर आप शहर में किसी प्लाट में टावर लगवाना चाहते हैं तो आपके पास 2000 स्क्वायर फिट की ज़मीन होनी चाहिए।
  • आपकी ज़मीन के आस-पास 100 मीटर तक के एरिया में कोई हॉस्पिटल नहीं होना चाहिए।
  • अगर आप टावर बिल्डिंग की छत पर लगाना चाहते हैं तो कम से कम 500 स्क्वायर फ़ीट की जगह होनी चाहिए।
मोबाइल टावर कैसे लगवाये

मोबाइल टावर लगवाने के फायदे

अपनी खाली पड़ी ज़मीन या प्लाट पर मोबाइल टावर लगवाने से आपको क्या-क्या फायदे हो सकते हैं आज हम इनसब के बारे में बात करेंगे। अपनी ज़मीन पर टावर  लगवाने से आपको एक फिक्स मासिक आय मिलनी शुरू हो जाएगी वो भी बिना किसी इन्वेस्टमेंट के। क्योंकि टावर लगाने वाली कंपनी टावर लगाने के लिए कोई पैसे चार्ज नहीं करती है। आप इस कंपनी से चाहें तो 5 साल का कॉन्ट्रैक्ट कर सकते हैं और जरूरत पड़ने पर उसे बढ़ा भी सकते हैं। इससे आपको घर बैठे ही अच्छी-खासी आय होनी शुरू हो जाएगी।

दूसरा फायदा ये होगा की खाली पड़ी ज़मीन उपयोग में आ जाएगी और उसकी देख-रेख की चिंता से भी आप मुक्त हो जाएंगे। ऊपर से आपको पैस मिलेँगे सो अलग।

तीसरा फायदा ये होगा कि आप जिस भी कंपनी के टावर को अपने ज़मीन पर लगवाएँगे, उस कंपनी के द्वारा उनकी सभी सेवाओं का आप मुफ्त में लाभ उठा सकते हैं। मुफ्त सेवाओं में फ्री कॉलिंग और फ्री इंटरनेट जैसी सुविधाएं शामिल होंगी। जरुरी नहीं है कि सभी कंपनियां ये सेवा फ्री में दे लेकिन ज्यादातर देखा गया है कि कंपनियां ये सेवाएं अपने लैंड ओनर्स के लिए फ्री कर देती हैं।

मोबाइल टावर लगवाने के  दस्तावेज़

मोबाइल टावर लगवाने के लिए आपको कुछ जरुरी डाक्यूमेंट्स की आवश्यकता होती है। जिनकी जांच-पड़ताल के बाद ही कंपनी आपके आवेदन को स्वीकृत करती है। आप भी अगर टावर लगवाने की सोच रहे हैं तो पहले इन जरुरी डाक्यूमेंट्स को तैयार रखें –

  • टावर लगवाने के लिए आपको उस एरिया के मुन्सिपाल्टी से NOC लेनी पड़ती है |
  • टावर लगवाने के लिए आपके पड़ोसी से भी NOC लेनी पड़ती है ताकि भविष्य में वो कोई विरोध उतपन्न न करें।
  • कंपनी के साथ आपका एक एग्रीमेंट तैयार किया जाएगा जिसमें टावर की अवधि, किराया, किराये की बढ़ोतरी की शर्तें आदि सब लिखी होंगी।
  • टावर लगवाने के लिए आपको Structure Safety Certificate भी लेना होता है जो इस बात का प्रमाण है कि आपकी ज़मीन टावर लगवाने के योग्य है।

मोबाइल टावर लगवाने हेतु डॉक्यूमेंट रिक्वायरमेंट

  • ID Proof Aadhaar Card , Pan Card , Voter Card
  • Address Proof Ration Card , Electricity Bill ,
  • Bank Account With Passbook
  • Photograph
  • Email ID 
  • Phone Number

अगर आपको कोई भी Documents Resize करना है तो आप इस वेबसाइट Photo/Signature resize के थ्रू कर सकते हैं

Interested Candidates Can Read the Full Notification Before Apply Online

Important Link

Partner With JioClick Here
आधार कार्ड से कितनी सिम ली गई है बारे में पता करेंClick Here
Bihar Official WebsiteClick Here

jio tower kaise lagwaye | jio tower installation process 2021

मोबाइल टावर लगवाने के नुकसान

वैसे तो मोबाइल टावर लगवाने का सबसे बड़ा फायदा एक फिक्स मासिक आय का मिलना है लेकिन अगर हम इससे होने वाले नुकसान की बात करें तो इससे सबसे ज्यादा नुकसान हमारे स्वास्थ्य पर पड़ता है। इन टावर्स से निकलने वाली उच्च स्तरीय रेडियो फ्रीक्वेंसी से आपको स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं से जूझना पड़ सकता है। इसके अलावा ये उच्च स्तरीय रेडियो फ्रीक्वेंसी हमारे आस-पास के वातावरण को भी काफी नुकसान पहुंचाती है। इन किरणों के प्रभाव से कई बार आपके खेती की ज़मीन बंजर हो सकती है। इसलिए अगर आप खेती की ज़मीन पर इन्हें लगवाने की सोच रहे हैं या उसके आस-पास लगवाने की सोच रहे हैं तो आपको इससे होने वाले खतरे के लिए भी तैयार रहना होगा।

मोबाइल टावर से कितने पैसे कमा सकते हैं

अगर हम बात करें कि मोबाइल टावर लगवा कर आप कितने पैसे कमा सकते हैं तो इसका जवाब आपकी ज़मीन के लोकेशन पर निर्भर करता है। आप अपनी ज़मीन के हिसाब से 7000 से लेकर 50000 रूपये तक कमा सकते हैं। अगर आपकी ज़मीन शहर में है तो फिर आप 1 लाख रूपये तक कमा सकते हैं।

मोबाइल टावर लगवाने हेतु आवेदन प्रक्रिया

अभी तक आपको टावर लगवाने के फायदे, नुकसान और नियम सब मालूम चल चुके होंगें। अब हम आपको बताएंगे की मोबाइल टावर लगवाने के लिए आवेदन कैसे दिए जाते हैं। वैसे तो हमारे देश में ढेरों वेबसाइट मिल जाएंगी जो कि टावर लगवाने का काम करती हैं लेकिन इनमें से ज्यादातर वेबसाइट फेक होती हैं। ये आपको फंसाकर पैसे ऐंठ सकती हैं। इसलिए नीचे हम आपको कुछ विश्वसनीय कंपनियों के नाम बता रहे हैं जिनकी वेबसाइट पर जाकर आप बेफिक्र होकर आवेदन दे सकते हैं। ये हैं –

  • Indus Tower
  • Bharti Infratel
  • ATC Tower

इंडस टावर – इंडस टावर भारत की सबसे प्रसिद्ध कंपनियों में से एक है। इनका हेडऑफिस गुड़गांव, हरियाणा में है। वैसे पूरे भारत में इनकी ब्रांचेज फैली हुई हैं। दूसरी कंपनी Bharti Infratel Limited है जो की सुनील मित्तल की कंपनी है। 1976 ईस्वी में उन्होंने इस कंपनी की स्थापना अपने दो भाइयों के साथ मिलकर की थी। अब ये कंपनी एयरटेल और बीटेल के नाम से जानी जाती हैं। तीसरी कंपनी है  ATC Tower अथार्त American Tower Corporation जो कि एक नामी कंपनी है। आप इनसे भी टावर लगवा सकते हैं।

आपको समझ आ ही गया होगा कि मोबाइल टावर लगवाने के क्या फायदे और क्या नुकसान हैं। अगर आप भी अपने घर या ज़मीन पर मोबाइल टावर लगवाने की सोच रहे है तो उम्मीद है मोबाइल टावर लगवाने से जुड़ी सारी जानकारियाँ मैंने आपसे साझा कर दी है। अब आपको इससे जुड़ी किसी भी तरह की कोई समस्या नहीं होगी।

Bihar Official Social Media

Facebook Follow Me
Telegram Join Now
Bihar Official WebsiteClick Here
Telegram GroupClick Here
Twitter Follow Me
LinkedIn Follow Me

Frequently Asked Questions FAQ

1 Q मोबाइल टावर लगवाने वाली मुख्य कम्पनियाँ कौन-कौन सी हैं ?

Ans भारती इंफ्राटेल, इंडस टावर्स, एटीसी टावर, जिओ

2 Q मोबाइल टावर लगवा कर आप कितने पैसे कमा सकते हैं ?

Ans 7000 से 1 लाख रूपये तक

3 Q गाँव में मोबाइल टावर लगवाने के लिए कितनी ज़मीन होनी आवश्यक है ?

Ans 2500 स्क्वायर फीट

4 Q शहर में मोबाइल टावर लगवाने के लिए कितनी ज़मीन होनी आवश्यक है ?

Ans 2000 स्क्वायर फीट

5 Q टावर बिल्डिंग पर मोबाइल टावर लगवाने के लिए कितनी ज़मीन होनी आवश्यक है ?

Ans 500 स्क्वायर फीट

6 Q इंडस टावर्स की हेड ऑफिस कहाँ है ?

Ans गुड़गांव, हरियाणा

7 Q मोबाइल टावर लगवाने के लिए आसपास के कितने एरिया में अस्पताल नहीं होना चाहिए ?

Ans 100 meter

ध्यान दें :- ऐसे ही केंद्र सरकार और राज्य सरकार के द्वारा शुरू की गई नई या पुरानी सरकारी योजनाओं की जानकारी हम आपतक सबसे पहले अपने इस Website के माधयम से पहुँचआते रहेंगे biharonlineportal.com, तो आप हमारे Website को फॉलो करना ना भूलें ।

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Share जरूर करें ।

इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद,,,

नीचे दिए गए सोशल मीडिया के आइकॉन पर क्लिक करके आप हमारे साथ जुड़ सकते हैं जिससे आने वाली नई योजना की जानकारी आप तक पहुंच सके|

Leave a Comment

x