Bihar Mukhyamantri Gramin Peyjal Nishchay Yojana Online Form | बिहार मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना 2023

Name of service:- बिहार मुख्यमंत्री पेयजल योजना
Post Date:-10/01/2023 09:00 PM
Post Update Date:-
Short Information:-आज हम बात करेंगे मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना बिहार के बारे में|बिहार राज्य सरकार के सात निश्चय के तहत हर घर नल का जल के सही रूप से चलाने और क्रियान्वित होने के लिए मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना प्रारंभ की गई है| इस पोस्ट को पढ़ कर आपको Bihar Mukhyamantri Gramin Peyjal Yojana से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त होगी इसलिए इस पोस्ट पर अंत तक जुड़े रहे|

विषय की सूची

मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना बिहार क्या है

मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना:- नमस्कार दोस्तों, बिहार राज्य के मुख्यमंत्री के कार्यक्रम के अन्तर्गत बिहार राज्य सरकार के सात निश्चय के तहत हर घर नल का जल के सही रूप से चलाने और क्रियान्वित होने के लिए मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना प्रारंभ की गई है। ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना के द्वारा बिहार राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्येक घर कोपाईप द्वारा शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है।

जैसा कि आप जानते हैं कि वर्तमान समय में जल का संकट शहरी क्षेत्रों को साथ-साथ बिहार राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में भी पानी की आपूर्ति का संगठन शुरू हो गया है| इसीलिए बिहार राज्य के नीतीश कुमार जी ने मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में पाईप द्वारा शुद्ध पेयजल की आपूर्ति हेतु ग्राम पंचायतों द्वारा जलापूर्ति की छोटी-छोटी योजनाएं चरणबद्ध तरीके से क्रियान्वित की जायेगी।

Mukhyamantri Gramin Peyjal Yojana Bihar New Update

बिहार सरकार इसके लिए साधारणतः भौगोलिक निरंतरता को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना को ग्राम पंचायतों के वार्ड को एक इकाई मान कर प्रत्येक वार्ड के लिए एक योजना तैयार की जायेगी। मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना के अन्तर्गत अधिकतम 70 लीटर प्रति व्यक्ति प्रतिदिन की दर से यानी एक व्यक्ति के लिए कम से कम 70 लीटर पानी प्रतिदिन उपलब्ध कराया जायेगा। बिहार पंचायती राज विभाग द्वारा मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना का कार्यान्वयन राज्य की 5,013 ग्राम पंचायतों (जहाँ जल गुणवत्ता प्रभावित नहीं है या लो बिहारक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग द्वारा पूर्व से कार्य नहीं कराया जा रहा है) में किया जायेगा।

बिहार मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना अनुरक्षक की व्यवस्था

अनुरक्षक की व्यवस्था :- बिहार मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना के तहत बिहार राज्य की हर ग्राम पंचायत के प्रत्येक वार्ड में अनुरक्षक की व्यवस्था होगी| अनुरक्षक का कर्तव्य बिहार मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना को सुचारू रूप से संचालन करना है। सामान्यतः वार्ड सदस्य ही अनुरक्षक के रूप में कार्य करेंगे और अनुरक्षक की व्यवस्था भी वही संभालेंगे। वार्ड सदस्य की अनिच्छा पर वार्ड सभा, वार्ड सचिव को अनुरक्षक बना सकेगी।

बिहार सरकार सरकार के सात निश्चय के तहत हर घर नल का जल के सही रूप से चलाने और क्रियान्वित होने के लिए मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना प्रारंभ की गई है। बिहार सरकार इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य बिहार के ग्रामीण जनों को साफ पानी मुहैया करवाना है और इन सब काम की देखरेख और मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना के सुचारू रूप से क्रियान्वयन के लिए अनु रक्षकों की व्यवस्था की जाएगी|

यह भी पढ़े :-

मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना बिहार उपभोक्ता शुल्क विवरण

मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना बिहार उपभोक्ताओं के लिए पानी का बिल के रूप से लगभग 300 रुपए आएगा परंतु आपको अन्य शुल्क संबंधी जानकारी भी जानना जरूरी है जो कि इस प्रकार हैं :-

  • पुनः गृह जल संयोजन हेतु संबंधित गृह स्वामी से शुल्क ₹300/- बनेगा जो कि अनुरक्षक को प्राप्त करना है|
  • उपभोक्ता के द्वारा मासिक उपभोक्ता शुल्क नहीं दिया जाता है तो अनुरक्षक द्वारा वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति को सूचित करते हुए संबंधित उपभोक्ता को नोटिस तामिला कराना।
  • यदि नोटिस तामिला होने के बाद भी उपभोक्ता द्वारा मासिक उपभोक्ता शुल्क नहीं दिया जाता है तो वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति द्वारा गृह जल संयोजन विच्छेद के लिए 15 दिनों का नोटिस दिया जाना।
  • नोटिस की अवधि समाप्त होने के बाद उपभोक्ता के द्वारा शुल्क नहीं जमा कराये जाने और वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति द्वारा संबंधित उपभोक्ता को राहत नहीं दिये जाने की स्थिति में उपभोक्ता का गृह जल संयोजन विच्छेद करना।
  • उपभोक्ता द्वारा जलापूर्ति का दुरूपयोग पाये जाने की स्थिति में ग्राम पंचायत द्वारा दण्ड अधिरोपित करना। प्रथम घटना में ₹150/- का जुर्माना, दूसरे दृष्टांत में ₹400/- जुर्माना लगाना एवं तीसरे दृष्टांत में ₹5000/- जुर्माना तथा गृह जल संयोजन विच्छेद कराना।
  • एक बार गृह जल संयोजन विच्छेद होने के बाद उपभोक्ता द्वारा बकाया और जुर्माना प्राप्त किये जाने के बाद क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति का आदेश पारित होने पर पुनः गृह जल संयोजन तकनीकी सहायक के पर्यवेक्षण में दिया जाना।
  • यदि उपभोक्ता के द्वारा मोटर पम्प का उपयोग किया जा रहा है तो वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति द्वारा इसे तुरंत हटाने का नोटिस तामिला कराया जायेगा।
  • इसके बाद भी उपभोक्ता द्वारा मोटर पम्प नहीं हटाया जाता है तो ग्राम पंचायत स्थानीय प्रशासन के सहयोग से ₹5000/- का जुर्माना लगाते हुए सम्पति को जब्त करेगी।
  • इसके बाद भी यही कार्य करने पर प्रखंड पंचायत राज पदाधिकारी प्राथमिकी दर्ज करायेंगे । यदि दोषी उपभोक्ता के द्वारा जुर्माना राशि का भुगतान नहीं किया जाता है तो सर्टिफिकेट वाद दायर करते हुए जुर्माना की राशि वसूली जायेगी।

मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना आवेदन के लिए जरुरी दस्तावेज

  • E-Mail ID
  • PAN Card
  • IFSC Code
  • Mobile No
  • Aadhar Card
  • Bank Account No
  • GSTIN No (Not for All)

अगर आपको कोई भी Documents Resize करना है तो आप इस वेबसाइट Photo/Signature Resize के थ्रू कर सकते हैं

Interested Candidates Can Read the Full Notification Before Apply Online

Important Link

Join Telegram GroupJoin Now
Mukhyamantri Gramin Peyjal Yojana Bihar DetailClick Here
Jal Jeevan Hariyali AbhiyanClick Here
Nal Jal Yojana Bihar Anurakshak Vacancy ListClick Here
Mukhyamantri Gramin Peyjal Yojana Mobile AppClick Here
Bihar Vikas MissionClick Here
Bihar Official WebsiteClick Here
Note:-
इस पोस्ट में हमने आपको मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना बिहार से जुड़ी सारी जानकारी प्रदान करें हैं इसलिए अगर आप उसके बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़े|

यह भी पढ़े :-

मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना के लिए वार्डों का चयन किस प्रकार किया जायेगा ?

बिहार सरकार के अनुसार मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना के माध्यम से चार वर्षों में आपके पंचायत के सभी वार्डों में नल का जल पहुँचा दिया जायेगा। इसके लिए पहले और चौथे साल में 20-20 प्रतिशत वार्ड तथा दूसरे और तीसरे साल में 30-30 प्रतिशत वार्ड में योजना  निर्माण के लिए राशि दी जायेगी। योजना में वार्ड की प्राथमिकता सूची बनाने के लिए वार्ड में रह रहे अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या और कुल जनसंख्या आधार होगा।

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना में वार्ड का चयन सबसे पहले अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या पंचायत के जिस वार्ड में सबसे ज्यादा होगी उसका चुनाव किया जायेगा। इनका चुनाव समाप्त होने के पश्चात ही उससे कम अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति जनसंख्या वाले वार्ड का चयन किया जायेगा और और इसी प्रकार अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या के घनत्व के आधार पर ही वार्ड दो का चयन होता जाएगा और जिस वार्ड में सबसे अधिक अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति के लोग रहेंगे उसका चुनाव सबसे पहले होगा तथा जिसमें सबसे कम रहेंगे उसकी बारी सबसे अंत में आएगी|

इस हिसाब से देखा जाए तो एक बार अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति वाले सभी वार्डों का चयन योजना के लिए हो जायेगा तब बचे हुये वार्डों को उनके कुल जनसंख्या, जिसमें अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या भी शामिल होंगे, उनके आधार पर चुना जायेगा और यहां पर भी पहले सबसे अधिक जनसंख्या वाले वार्ड को चुना जायेगा और फिर इसके बाद इन वार्ड से कम जनसंख्या वाले वार्ड का नंबर आएगा तथा उसके बाद उससे कम इसी प्रकार यहां घटता क्रम जनसंख्या के आधार पर चलता रहेगा |

मुख्यमंत्री ग्रामीण नल जल योजना शिकायत कैसे करें

अगर आपके ग्रामीण पेयजल योजना के अंतर्गत पानी की व्यवस्था ठीक से नहीं हो रही है या आपके वार्ड या ग्रामीण क्षेत्र में अनुरक्षक ठीक से कार्य नहीं कर रहा है तो आप इसकी शिकायत भी कर सकते हैं आप शिकायत करने के लिए बिहार सरकार द्वारा जारी आधिकारिक हेल्पलाइन नंबर जो कि टोल फ्री है उस पर कॉल करके अपनी शिकायत यह समस्या दर्ज करा सकते हैं आपकी समस्या का निराकरण जल्द ही किया जाएगा |

  • Toll Free No :- 1800 123 1121

ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना शिकायत का निवारण कैसे करें

अगर किसी भी व्यक्ति या वार्ड के सदस्यों को बिहार मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना के क्रियान्वयन में बाधा आती है या उन्हें किसी बात से आपत्ति होती है तो वह टोल फ्री नंबर पर शिकायत करेंगे इसकी शिकायत का निवारण इस प्रकार किया जाता है:-

शिकायत का प्रकारसर्विस टाइम
जलापूर्ति में लीकेज 24 घंटे
साधारण 3-5 दिन
असाधारण 3-5 दिन
मोटर पम्प में खराबी24 घंटे
स्टैंड पोस्ट की मरम्मती24 घंटे
पानी की टंकी की सफाई15 दिन (अगर 6 महीने से नही करी है तो)
नया गृह सयोजन3 दिन
जल गुणवत्ता की जाँच 3 दिन
  • Responsible Officer :- वार्ड क्रियान्वयन & प्रबंधन समिति
  • Review Officer :- प्रखंड पंचायत राज पदाधिकारी

मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना अनुरक्षक को कितना पैसा मिलता है ?

जिस प्रकार हमने आपको इस पोस्ट में बिहार ग्रामीण पेयजल योजना से जुड़ी सारी जानकारी दी है तथा अनुरक्षक भर्ती के बारे में भी बताया है अनुरक्षक वैकेंसी के लिए ऑनलाइन आवेदन किया जाता है इन सभी जानकारी के साथ अब हम यह जान लेते हैं कि अनुरक्षकों को कितना पैसा मांगा महीने का दिया जाता है| बिहार अनुरक्षक से जुड़ी वित्तीय विवरण की सारी जानकारी इस प्रकार हैं :-

  • 15वें वित्त आयोग के अनुदान की प्राप्ति के सात दिनों में पंचायत सचिव, ग्राम पंचायत द्वारा प्रतिमाह ₹4000/- की दर से अनुदान राशि हस्तांतरित की जायेगी। पंचायत सचिव, ग्राम पंचायत द्वारा इस राशि को वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के खाते में हस्तांतरित किया जायेगा, जिससे अनुरक्षक को ₹2000/- प्रतिमाह की दर से मानदेय भुगतान किया जा सकेगा। शेष ₹2000/- का उपयोग जलापूर्ति योजनाओं के अनुरक्षण में किया जायेगा।
  • वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति द्वारा संग्रहित उपभोक्ता शुल्क का 50% राशि प्रोत्साहन स्वरूप अनुरक्षक को देय होगी एवं शेष 50% राशि का उपयोग जलापूर्ति योजनाओं के अनुरक्षण हेतु किया जायेगा।
  • वार्ड सदस्य द्वारा यदि अनुरक्षकों के कर्तव्य का निर्वहन किया जाता है, तो उन्हें अनुरक्षकों के लिए निर्धारित मानदेय अमान्य होगा। वार्ड सदस्यों को भुगतान किये जाने वाला प्रतिनिधि भत्ता भी पूर्ववत् अनुमान्य होगा।
  • पेयजल योजनाओं के संधारण हेतु वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के स्तर पर समुचित संचालन सुनिश्चित करने के उद्देश्य से राज्य सरकार द्वारा, वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के खाते में सीधा ₹24000/- वार्षिक अनुदान अलग से दिया जायेगा।
  • विद्युत विपत्र का भुगतान एवं रख-रखाव उक्त तीनों स्रोतों से प्राप्त समेकित निधि से अध्यक्ष, वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति द्वारा किया जायेगा।
  • विद्युत विपत्र का भुगतान अध्यक्ष वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति द्वारा ससमय करना सुनिश्चित किया जायेगा।
  • ‘गाम पंचायतों दारा जर्माना स्वरूप वसली गई राशि गाम पंचायत की निधि में शामिल हो जायेगी।

बिहार मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना 2023 अनुरक्षक के कार्य

बिहार पर नल जल योजना के अंतर्गत जिन भी अन रक्षकों की व्यवस्था की जाएगी उन्हें कुछ न कुछ कार्य करना पड़ेगा अनु रक्षकों के लिए कोई भारी कार्य नहीं रहेगा बस हमें जल की ठीक से आपूर्ति तथा अन्य कार्यों पर ध्यान देना होगा विस्तार से जाने तो अनुरक्षक के विशिष्ट दायित्व निम्न है:-

  • निर्धारित समय पर प्रतिदिन दो पालियों में मोटर पम्प को चालू करना एवं बंद करना। लॉग बुक में प्रतिदिन मोटर पम्प चालू / बंद करने के समय की प्रविष्टि करना |
  • वार्ड के दो महिला लाभुकों का हस्ताक्षर एवं मोबाईल नं० (जहाँ तक संभव हो, उनका घर अंतिम छोर पर अवस्थित हो) लेना ।
  • जलापूर्ति की अवधि माह अक्टूबर से मार्च तक प्रातः 6:00 बजे से 9:00 बजे तक एवं अन्य माह में प्रातः 5:00 बजे से 8:00 बजे तक तथा सायंकाल सभी माह में 4:00 बजे से 7:00 बजे तक होगी।
  • प्रत्येक उपभोक्ता परिवार से उपभोक्ता शुल्क के रूप में ₹30 (तीस रुपया) मात्र प्रतिमाह वसूलना एवं संकलित राशि को वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के खाते में जमा करना।
  • उपभोक्ता शुल्क संग्रहण पंजी का संधारण करना।
  • जलापूर्ति योजना से संबंधित अवयवों की सुरक्षा सुनिश्चित करना ।
  • अगर मोटर लिया कि नहीं पेयजल संबंधी पैसों की चोरी होने की स्थिति में थाना में प्राथमिकी दर्ज करना।
  • लॉगबुक, आगंतुक पंजी एवं शिकायत पंजी का संधारण करना।
  • जलापूर्ति योजना के निरीक्षण के दौरान पाए गए त्रुटियों एवं प्राप्त शिकायतों से वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति, तकनीकी
    सहायक एवं विभाग के अनुश्रवण कोषांग को अवगत कराना।
  • अनवरत जलापूर्ति छोटे-छोटे कार्य सम्पन्न करना यथा पानी की टंकी की सफाई, पंप हाउस, बोरिंग का चैम्बर, परिसर आदि की साफ-सफाई, Leakage होने की स्थिति में उस गली के Gate Valve को बंद करना इत्यादि।
  • लघु मरम्मतिः- जलापूर्ति योजनाओं के लघु मरम्मति का कार्य प्रखंड स्तरीय अनुरक्षण एजेन्सी के माध्यम से संबंधित वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति द्वारा कराया जायेगा।

बिहार मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना लघु मरम्मति की व्यवस्था

  • बिहार मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना के अंतर्गत लघु मरम्मतिः- आपको बता दें कि बिहार जलापूर्ति योजनाओं के लघु मरम्मति का कार्य प्रखंड स्तरीय अनुरक्षण एजेन्सी के माध्यम से संबंधित वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति द्वारा कराया जायेगा अच्छा कुछ भी मरम्मत की जरूरत होती है तो प्रबंधन समिति द्वारा कारीगर को भेजा जाएगा। लघु मरम्मत कारीगर कई कार्यों में निपुण रहेंगे जो कि अगर वार्ड में बिहार नल जल योजना से संबंधित आने वाली समस्याओं के समाधान के लिए कार्य करेंगे|

मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना बिहार लघु मरम्मति के कार्य

  • मोटर पम्प की मरम्मति कार्य।
  • Starter की मरम्मति/नये Starter का अधिष्ठापन कार्य।
  • Voltage Stabilizer की मरम्मति कार्य।
  • बोरिंग चैम्बर का मरम्मति कार्य।
  • Rising Main/Delivery Main का Restoration कार्य।
  • जल वितरण प्रणाली में बिछाए गए विभिन्न व्यास के HDPE पाईप में Leakage मरम्मति कार्य।
  • Check Valve/Stop Valve/Gate Valve का Restoration कार्य।
  • जल वितरण प्रणाली के क्रम में लगाए गए Gate Valve चैम्बर/Sluice Valve चैम्बर की मरम्मति कार्य।
  • फेरूल मरम्मति/नया क्रय करने का कार्य।
  • 10 पानी की टंकी का मरम्मति कार्य।
  • Steel/RCC स्ट्रक्चर का मरम्मति कार्य।

मुख्यमंत्री पेयजल योजना बिहार प्रखण्ड स्तरीय अनुरक्षक एजेंसी के कार्य


प्रखण्ड स्तरीय अनुरक्षण एजेंसी के भी कुछ दायित्व या कार्य बनते हैं जिन्हें एजेंसी द्वारा समय से पूरा किया जाना चाहिए उन कार्यों की सूची कुछ इस प्रकार है:-

  • वार्ड स्तर पर पेयजल योजनाओं के मरम्मति कार्यों हेतु प्रखंड स्तरीय अनुरक्षण एजेंसी को सूचीबद्ध किया जायेगा, जो Electrician, Fitter, Plumber, Welder, Mechanic, Helper, Skilled Mason आदि की सेवा उपलब्ध करायेगा।
  • प्रखण्ड स्तरीय अनुरक्षण एजेंसी, उपभोक्ता सामग्रियों का भंडार रखेंगे तथा परिवहन व्यवस्था रखेंगे।
  • वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति से सूचना प्राप्त होने पर त्वरित संज्ञान लेते हुए अपने मानव बल को सामग्रियों एवं Fitting Toolkit के साथ योजना स्थल पर भेजकर यथाशीघ्र त्रुटियों का समाधान कराना सुनिश्चित करेंगे।
  • कार्य सम्पन्न होने के उपरांत अपने Letter Head पर प्रचलित बाजार दर पर विपत्र एवं प्रमाणक संबंधित वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति को प्रस्तुत करेंगे।
  • प्रखण्ड स्तरीय अनुरक्षण एजेंसी, मरम्मति के उपरांत निकटवर्ती न्यूनतम 3 गृहस्वामी एवं तकनीकी सहायक से कार्य संतुष्टि
  • प्रमाण-पत्र प्राप्त करेंगे एवं विपत्र के साथ अध्यक्ष, वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति को समर्पित करेंगे।

प्रखण्ड स्तरीय अनुरक्षण एजेंसी की चयन प्रक्रिया

  • विभाग द्वारा दैनिक समाचार पत्र में प्रखण्ड स्तरीय अनुरक्षण एजेंसी के Online Empanelment हेतु विज्ञापन प्रकाशित किया जाएगा।
  • विभाग द्वारा Online आवेदन प्राप्त करने हेतु Mobile Application विकसित किया जायेगा, जिसमें निम्नलिखित बिन्दु का प्रावधान किया जाएगा:-
  • प्रखण्ड स्तरीय अनुरक्षण एजेंसी का नाम एवं पूर्ण स्थायी पता।,Mobile No and E-Mail ID, Aadhar Card, PAN Card, GSTIN No., Bank Account No. with IFSC Code
  • GSTIN धारक कोई भी व्यक्ति/संस्था/प्रतिष्ठान सूचीबद्ध हो सकता है। उन्हें कुशल मानव बल संबंधी शपथपत्र देना होगा।
  • सूचीबद्ध एजेंसी द्वारा कुशल मानव बल (प्लंबर, इलेक्ट्रीशियन, राज मिस्त्री, फिटर, वेल्डर, मैकेनिक एवं मजदूर) का नाम एवं पता युक्त शपथ पत्र 15 दिनों के अंदर Upload की जायेगी।
  • आवेदकों में से पात्र एजेंसी का चयन जिला स्तर पर जिला पंचायत राज पदाधिकारी/कार्यपालक अभियंता, लोक स्वास्थय
  • अभियंत्रण विभाग द्वारा, उपलब्ध कराये गये कागजात एवं साक्षात्कार के माध्यम से संयुक्त रूप से किया जायेगा।
  • पूर्व की जलापूर्ति संबंधित कार्य का अनुभव रहने पर एजेंसी को प्राथमिकता दी जायेगी। यह सुनिश्चित किया जायेगा कि औसतन 03 पंचायत पर एक एजेंसी से अधिक का सचीकरण नहीं किया जाय।

Mukhayamantri Nal Jal Yojana Bihar New Update

मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना बिहार बड़े मरम्मत के कार्य

  • Boring Failure की स्थिति में नये Boring का निर्माण कार्य एवं Rising Main का संयोजन।
  • नये मोटर पम्प का अधिष्ठापन कार्य।
  • टंकी अधिष्ठापन हेतु नये Structure (RCC/Steel) का निर्माण कार्य ।
  • अतिरिक्त पानी की टंकी का अधिष्ठापन कार्य ।
  • नये घर बनने की स्थिति में अतिरिक्त पाईप लाईन एवं गृहजल संयोजन देने का कार्य।
  • आपदा एवं Unforeseen की स्थिति में वृहद रूप से क्षतिग्रस्त जल वितरण प्रणाली का पुनःस्थापन कार्य।
  • पूर्व से निर्मित क्षतिग्रस्त पाईप लाईन प्रणाली का पुनर्स्थापन कार्य (कुल लम्बाई 100 मीटर से कम होने पर लघु मरम्मति घटक में आच्छादन होगा)।

ग्रामीण पेयजल योजना बिहार बड़े मरम्मत के कार्यो के मुख्य प्रावधान

  • Major Repair की आवश्यकता की स्थिति में वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति प्रस्ताव गठित करेगी।
  • वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति, तकनीकी सहायक को प्राक्कलन बनाने हेतु लिखित अनुरोध करेगी।
  • तकनीकी सहायक स्थिति के निरीक्षण के उपरांत प्राक्कलन का गठन कर, तकनीकी स्वीकृति प्रदान करेंगे एवं प्रशासनिक स्वीकृति हेतु ग्राम पंचायत को प्रेषित करेंगे।
  • ग्राम पंचायत द्वारा प्राक्कलित राशि की प्रशासनिक स्वीकृति प्रदान की जायेगी। ग्राम पंचायत सचिव द्वारा अधिकतम 7 दिनों में राशि वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के खाते में हस्तांतरित किया जायेगा। यह राशि 15वें वित्त आयोग के अनुदान के Tied घटक से वहन की जायेगी।
  • राशि की ससमय अनुपलब्धता होने पर ग्राम पंचायत, प्रखण्ड पंचायत राज पदाधिकारी की पूर्व सहमति लेकर अर्तमद अस्थाई विचलन कर राशि उपलब्ध करायेगी।
  • वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति न्यूनतम 3 कोटेशन प्राप्त कर न्यूनतम दर दाता से कार्य करायेगी।
  • तकनीकी सहायक के पर्यवेक्षण में उक्त कार्य कराया जायेगा एवं कार्य के अनुरूप मापी दर्ज की जाएगी।
  • वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति द्वारा कार्यों का अनुश्रवण किया जाएगा एवं मापी पुस्त के अनुरूप भुगतान खाते में किया जाएगा।
  • ग्राम पंचायत द्वारा कार्यों का अनुश्रवण किया जायेगा।

बिहार ग्रामीण पेयजल योजना वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के दायित्व

  • वार्ड में जलापूर्ति योजना का प्रबंधन एवं अनुश्रवण करना।
  • जलापूर्ति में त्रुटि संबंधित प्राप्त सूचना के आधार पर प्रखण्ड स्तरीय अनुरक्षण एजेंसी से सम्पर्क कर त्वरित त्रुटि का निराकरण कराना।
  • प्रखण्ड स्तरीय अनुरक्षण एजेंसी द्वारा किए गए कार्य में लगने वाले सामग्रियों एवं श्रम शुल्क का प्रमाणक (Voucher) के साथ विपत्र एवं उपभोक्ता संतुष्टि प्रमाण-पत्र प्राप्त करना एवं इससे संबंधित पंजी संधारण करना।
  • प्राप्त विपत्र एवं Voucher को संकलित कर प्रखण्ड स्तरीय अनुरक्षण एजेंसी को उनके खाते में भुगतान करना।
  • अनुरक्षक को मानदेय भुगतान सुनिश्चित करना। अनुरक्षक द्वारा संकलित किये गए उपभोक्ता शुल्क को वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के खाते में जमा करना । 50% राशि त्रैमासिक रूप में प्रोत्साहन राशि के तौर पर अनुरक्षक को भुगतान करना एवं इससे संबंधित पंजी का संधारण करना।
  • योजना को सुचारू रूप से संचालित नहीं रखने की स्थिति में अनुरक्षक को दिये जाने वाले मानदेय/प्रोत्साहन राशि में कटौती करना।
  • हर घर तक जल की सतत् उपलब्धता रखना।
  • नये आवास बनने पर गृहजल संयोजन देना।
  • पेयजल के दुरूपयोग की रोकथाम करना।
  • रख-रखाव एवं अनुरक्षण मद में किये जाने वाले व्यय भार को वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति द्वारा त्रैमासिक तौर पर अनुमोदित कराना ।
  • समिति द्वारा छमाही तौर पर ग्राम पंचायत द्वारा उपलब्ध करायी गई अनुदान राशि का उपयोगिता प्रमाण पत्र संबंधित पंचायत सचिव को भेजना सुनिश्चित करना।

मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना ग्राम पंचायत का दायित्व

  • वार्डों में जलापूर्ति योजनाओं का सतत् संचालन सुनिश्चित करना एवं अनुश्रवण-समन्वय करना।
  • वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के खाते में अनुरक्षण अनुदान का ससमय हस्तांतरण करना।
  • वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति द्वारा खर्च किए गए राशि का अनुश्रवण एवं उपयोगिता प्रमाण-पत्र लेना।
  • किसी वार्ड में वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति की अक्षमता होने पर वार्ड सभा में प्रस्ताव पारित कराकर ग्राम पंचायत स्तर से पेयजल व्यवस्था का संचालन सुनिश्चित करना। ऐसी स्थिति में ग्राम पंचायत, वार्ड क्रियान्वयन एवं प्रबंधन समिति के सभी दायित्वों का निर्वहन करेगी।
  • वार्ड में उपभोक्ता द्वारा जलापूर्ति का दुरूपयोग अथवा अनधिकृत मोटर पम्प का उपयोग पाये जाने की स्थिति में ग्राम पंचायत द्वारा दण्ड अधिरोपित करना।

Bihar Official Social Media

FacebookFollow Me
TelegramJoin Now
Bihar Official WebsiteClick Here
Official YouTube ChannelSubscribe
Telegram GroupClick Here
TwitterFollow Me
LinkedInFollow Me

Frequently Asked Questions FAQ

Q1. मुख्यमंत्री पेयजल योजना बिहार में एक दिन में कितना पानी दिया जायेगा ?

Ans मुख्यमंत्री पेयजल योजना बिहार में एक दिन में एक व्यक्ति को 70 लिटर पानी दिया जायेगा

Q2. क्या मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना में पानी की प्राप्ति के लिए कोई शुल्क भी देना होगा ?

Ans नही,मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना में पानी की प्राप्ति के लिए कोई शुल्क नही देना होगा परन्तु मरम्मत में सहयोग देना होगा |

Q3. क्या मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना के द्वारा हर घर तक पेयजल कैसे उपलब्ध होगा ?

Ans मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना के द्वारा हर घर तक पेयजल पाईप के माध्यम से उपलब्ध होगा |

Q4. मुख्यमंत्री पेयजल योजना बिहार अनुरक्षक को कितना पैसा मिलता है ?

Ans मुख्यमंत्री पेयजल योजना बिहार अनुरक्षक को महीने का 4000 रुपया मिलता है

Q5. मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना बिहार शिकायत कैसे करें ?

Ans आप शिकायत करने के लिए बिहार सरकार द्वारा जारी आधिकारिक हेल्पलाइन नंबर जो कि टोल फ्री है उस पर कॉल करके अपनी शिकायत यह समस्या दर्ज करा सकते हैं आपकी समस्या का निराकरण जल्द ही किया जाएगा |

Q6. बिहार मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना के लिए हेल्पलाइन नंबर क्या है ?

Ans बिहार मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना के लिए हेल्पलाइन नंबर:- Toll Free No :- 1800 123 1121

Q7. बिहार मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना आवेदन के लिए जरुरी दस्तावेज क्या है ?

Ans बिहार मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना आवेदन के लिए जरुरी दस्तावेज:-
Mobile No
E-Mail ID
Aadhar Card
PAN Card
GSTIN No(Not for all)
Bank Account No.
IFSC Code

ध्यान दें :- ऐसे ही केंद्र सरकार और राज्य सरकार के द्वारा शुरू की गई नई या पुरानी सरकारी योजनाओं की जानकारी हम आपतक सबसे पहले अपने इस Website के माधयम से पहुँचआते रहेंगे biharonlineportal.com, तो आप हमारे Website को फॉलो करना ना भूलें ।

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Share जरूर करें ।

इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद,,,

नीचे दिए गए सोशल मीडिया के आइकॉन पर क्लिक करके आप हमारे साथ जुड़ सकते हैं जिससे आने वाली नई योजना की जानकारी आप तक पहुंच सके|

Leave a Comment